Categories Selfstudyhistory.com

BPSC History Optional Test Series- 2020 [In Hindi and English] बीपीएससी इतिहास वैकल्पिक टेस्ट सीरीज- 2020 [हिंदी और अंग्रेजी में]

BPSC History Optional Test Series- 2020 [In Hindi and English]

बिहार लोक सेवा आयोग इतिहास वैकल्पिक टेस्ट सीरीज- 2020 [हिंदी और अंग्रेजी में]

FEATURES OF THE PROGRAM (कार्यक्रम की विशेषताएं)

1. Online Test Series (ऑनलाइन टेस्ट सीरीज)

  • Total number of Tests: 5 Full Tests (टेस्ट की कुल संख्या: 5 पूर्ण टेस्ट)
  • 5 Full Tests will be of 300 Marks each and 3 hours time limit. (5 पूर्ण टेस्ट प्रत्येक के 300 अंक और 3 घंटे की समय सीमा होगी।)
  • Test will start from 20th May. (टेस्ट 20 मई से शुरू होगा)
  • Dates of tests will be flexible. You can submit your tests any time and date till BPSC Main Examination. (परीक्षणों की तारीखें लचीली होंगी। आप बीपीएससी मुख्य परीक्षा तक किसी भी समय और तारीखों पर अपनी परीक्षा दे सकते हैं।)
  • Questions in the test series will be asked as per new pattern in Hindi and English. (टेस्ट सीरीज़ में प्रश्न हिंदी और अंग्रेजी में नए पैटर्न के अनुसार पूछे जाएंगे।) 
  • Detailed syllabus for each test has been uploaded on this page. (इस पृष्ठ पर प्रत्येक परीक्षा के लिए विस्तृत पाठ्यक्रम अपलोड किया गया है।)
  • Mode of communication will be online. (संचार का तरीका ऑनलाइन होगा।)
  • On due date (नियत तिथि पर):
    • Question Paper, Answer Sheet and Detailed Solution will be sent to the enrolled students through email. (प्रश्न पत्र, उत्तर पुस्तिका और विस्तृत समाधान नामांकित छात्रों को ईमेल के माध्यम से भेजा जाएगा।)
    • You will have to send your answer sheet for evaluation in PDF format (you can use camscanner app). [आपको पीडीएफ प्रारूप में मूल्यांकन के लिए अपनी उत्तर पुस्तिका भेजनी होगी (आप कैमस्कैनर ऐप का उपयोग कर सकते हैं)।]
    • Evaluated answer sheet will be reverted back within 5 days. (मूल्यांकन की गई उत्तर पुस्तिका को 5 दिनों के भीतर वापस कर दिया जाएगा।)
  • Detailed and high quality solution of each test will be provided in Hindi and English. ( प्रत्येक टेस्ट का विस्तृत और उच्च गुणवत्ता वाला उत्तर हिंदी और अंग्रेजी में प्रदान किया जाएगा।)
  • Answer sheets will be evaluated with detailed feedback for improvement along with marking. (अंकन के साथ-साथ सुधार के लिए विस्तृत प्रतिक्रिया के साथ उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन किया जाएगा।)
  • All doubts will be clarified via email, whatsapp or phone. (सभी संदेह ईमेल, व्हाट्सएप या फोन के माध्यम से स्पष्ट किए जाएंगे। )
  • Personal guidance will be given for any clarification related to the preparation. (तैयारी से संबंधित किसी भी स्पष्टीकरण के लिए व्यक्तिगत मार्गदर्शन दिया जाएगा।)

2. Previous Years Solved Questions of BPSC (Topic wise) [पिछले वर्षों के प्रश्न बीपीएससी (विषयवार)]

  • Access to the solution of previous years’ history optional questions (topic wise) of BPSC will be provided. (बीपीएससी के पिछले वर्षों के इतिहास वैकल्पिक प्रश्नों के  विषयवार उत्तर प्रदान की जाएगी।)

SCHEDULE FOR TESTS [Dates are flexible]

टेस्ट के लिए अनुसूची [तिथियाँ लचीली हैं]

Full Test I: Ancient India: 300 Marks (180 Minutes Duration)

पूर्ण टेस्ट I: प्राचीन भारत: 300 अंक (180 मिनट की अवधि)

Full Test II: Medieval India: 300 Marks (180 Minutes Duration)

पूर्ण टेस्ट II: मध्यकालीन भारत: 300 अंक (180 मिनट अवधि)

Full Test III: Modern India: 300 Marks (180 Minutes Duration)

पूर्ण टेस्ट III: आधुनिक भारत: 300 अंक (180 मिनट अवधि)

Full Test IV: World History: 300 Marks (180 Minutes Duration)

पूर्ण टेस्ट IV: विश्व इतिहास: 300 अंक (180 मिनट अवधि)

Full Test V: Complete History (Mock Test): 300 Marks (180 Minutes Duration)

पूर्ण टेस्ट V: पूरा इतिहास (मॉक टेस्ट): 300 अंक (180 मिनट अवधि)

COURSE FEE [पाठ्यक्रम शुल्क]

Total Fee: 4500/- (Including Taxes)

कुल शुल्क: ₹ 4500/ – (कर सहित)

STEPS FOR ENROLLMENT [नामांकन के लिए कदम]

Follow the following steps for enrollment  (नामांकन के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन करें) :

  1. Make payment by using Payment Details (given in this page). [भुगतान विवरण (इस पृष्ठ में दिए गए) का उपयोग करके भुगतान करें।]
  2. Fill the online application form (given in this page) after making payment. [भुगतान करने के बाद ऑनलाइन आवेदन फॉर्म (इस पृष्ठ में दिया गया) भरें।] 
  3. Email one ID Proof on selfstudyhistory@gmail.com (selfstudyhistory@gmail.com पर एक आईडी प्रूफ ईमेल करें)
  4. After following the above steps, you will get all the required information within 24 hours on your Email ID. (उपरोक्त चरणों का पालन करने के बाद, आपको अपनी ईमेल आईडी पर 24 घंटे के भीतर सभी आवश्यक जानकारी मिल जाएगी।)

APPLICATION FORM [आवेदन पत्र]

PAYMENT DETAILS [भुगतान विवरण]

Pay by Debit Card/ Credit Card/ UPI/ Wallets (डेबिट कार्ड / क्रेडिट कार्ड / UPI / वॉलेट द्वारा भुगतान करें): 

 

Paytm to: 9031846848

Contact details for any query (किसी भी प्रश्न के लिए संपर्क विवरण):

Mobile No. (मोबाइल नंबर) 9718593510, 8210076034, 9717510106

Email ID (ईमेल आईडी): selfstudyhistory@gmail.com

Syllabus for Full Test I: Ancient India (पूर्ण टेस्ट I के लिए पाठ्यक्रम: प्राचीन भारत)

1. सिन्धु सभ्यता

उद्गम, विस्तार, प्रमुख विशेषताएँ, महानगर, व्यापार और संबंध; हरास के कारण, उतरा जीविता और सांतत्व।

2. वैदिक युग

वैदिक साहित्य, वैदिक युग का भौगोलिक क्षेत्र, सिन्धु सभ्यता और जैविक संस्कृत के बीच असमानताएँ और समानताएँ। राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक प्रतिरूप, महान धार्मिक विचार और रीति-रिवाज।

3. मौर्य काल से पूर्व

धार्मिक आंदोलन (जैन, बौद्ध और अन्य धर्म) सामाजिक और आर्थिक स्थिति। मगध साम्राज्य का गणतंत्र और वृद्धि।

4. मौर्य साम्राज्य

साधन, साम्राज्य प्रशासन का उद्भव, वृद्धि और पतन, सामाजिक और आर्थिक स्थिति, अशोक की नीति और सुधार काल।

5. मौर्य काल के बाद (200 ई॰पू॰- 300 ई॰)

उत्तरी और दक्षिणी भारत में प्रमुख राजवंश, आर्थिक और सामाजिक, संस्कृत, प्राकृत और तमिल धर्म (महायान का उदय और ईश्वरवादी उपासना)। कला (गांधार, मथुरा तथा अन्य स्कूल) केन्द्रीय एशिया से संबंध।

6. गुप्त काल

गुप्त साम्राज्य का उदय और पतन, बकाटकास, प्रशासन समाज अर्थव्यस्था, साहित्य कला और धर्म दक्षिण पूर्व एशिया से संबंध।

7. गुप्त काल के पश्चात् (500 ई॰-700 ई॰)

पुश्यभूतिस, मोखादिस, उनके पश्चात् गुप्त राजा। हर्षवर्धन और उसका काल, बदामी के चालुक्य। पल्लव, समाज, प्रशासन और कला। अरब विजय।

8. विज्ञान और प्रौद्योगिकी, शिक्षा और ज्ञान का सामान्य पुनरीक्षण।

1.  The Indus Civilisation: Origins extent, characteriatic features, major cities, trade and contacts, causes of decline, survival and continuity.

2.  The Vedic age: Vedic literature. Geographical area known to vedic texts. Differences and similarities between Indus Civilisation and Vedic culture. Politcal, social and economic patterns.Major religious ideas and rituals.

3. The Pre-Maurya Period: Religious movements (Jainism. Budhism and other sects). Social and economic conditions. Republics and growth of Magadha imperialism.

4.  The Maurya Empire: Sources, rise, extent and fall of the empire administration .Social and economic conditions. Ashoka’s policy and reform, art.

5.  The Post-Maurya Period (200 B.C-300 A.D): Prinicipal dynasties in Northern and Southern India. Economy and Society, Sanskrit, Prakrit and Tamil, Religion (Rise of Mahayana and theistic cults). Art (Gandhara, Mathura and other schools). Contacts with Central Asia.

6.  The Gupta Age: Rise and fall of the Gupta Empire, the Vakatakas. Administration, Society, economy, literature, art and religion. Contacts with South Asia.

7.  Post-Gupta Period (B.C 500-750 A.D): Pushybhutis. The Muakharis. The later Guptas. Harshavardhana and his times. Chalukyas of Badami. The Pallavas society. administration and art. The Arab conquest.

8.  General review of science and technology, education and learning.

Syllabus for Full Test II: Medieval India (पूर्ण टेस्ट II के लिए पाठ्यक्रम: मध्यकालीन भारत)

भारत 750 ई॰ से 1200 ई॰ तक

1. राजनीतिक और सामाजिक दशा, राजपूत, उनकी नीतियाँ और सामाजिक संरचना (भू-संरचना और इसका समाज पर प्रभाव)।

2. व्यापार और वाणिज्य

3. कला, धर्म और दर्शन, शंकराचार्य।

4. तटवत्र्ती क्रियाकलाप, अरबी से संबंध, आपसी सांस्कृतिक प्रभाव।

5. राष्ट्रकुल, इतिहास में उनकी भूमिका, कला और संस्कृति में योगदान (चोल साम्राज्य, स्थानीय स्वायत सरकार, भारतीय ग्राम पद्धति के लक्षण, दक्षिण में समाज अर्थव्यवस्था, कला और विद्या)।

6. मुहम्मद गजनवी के आक्रमण से पूर्व भारतीय समाज अलवरूनी के दृष्टान्त।

भारत 1200-1765

7. उत्तर भारत में दिल्ली सुल्तानों की नींव, कारण और परिस्थितियाँ, भारतीय समाज पर उसका प्रभाव।

8. खिलजी साम्राज्य, सार्थकता और आशय, प्रशासनिक और आर्थिक विनियमन और राज्य एवम् जनता पर उनका प्रभाव।

9. मुहम्मद बिन तुगलक के अधीन राज्य नीतियों और प्रशासनिक सिद्धांतों की नवीन स्थिति, फिरोजशाह की धार्मिक नीति और लोक-निर्माण।

10. दिल्ली सल्तनत का विघटन- कारण और भारतीय राजतंत्र और समाज पर इसका प्रभाव।

11. राज्य का स्वरूप और विशेषता- राजनीतिक विचार और संस्थाएँ, कृषक संरचना और संबंध, शहरी केन्द्रों की वृद्धि, व्यापार और लघु वाणिज्य, शिल्पकारों और कृषकों, नवीन शिल्प, उद्योग और प्राधोगिकी भारतीय औषधियों की स्थिति।

12. भारतीय संस्कृति पर इस्लाम का प्रभाव- मुस्लिम रहस्यवादी आंदोलन, भक्ति संतों की प्रकृति और सार्थकता, महाराष्ट्र धर्म। वैष्व पुनरूद्धारकों के आंदोलनों की भूमिका, चैतन्य आंदोलन की सामाजिक और धार्मिक सार्थकता, मुस्लिम सामाजिक जीवन पर हिन्दु समाज का प्रभाव।

13. विजय नगर साम्राज्य, इसकी उत्पत्ति और वृद्धि कला, साहित्य और संस्कृति में योगदान, सामाजिक और आर्थिक स्थितियाँ, प्रशासन की पद्धति, विजय नगर साम्राज्य का विघटन।

14. इतिहास के स्रोत, प्रमुख इतिहासकारों, शिलालेखों और मंत्रियों का विवरण।

15. उत्तर भारत में मुगल साम्राज्य की स्थापना- बाबर की चढ़ाई के समय हिन्दुस्तान में राजनैतिक और सामाजिक स्थिति, बाबर और हुमायंु, भारतीय समुद्र में पुर्तगाली नियंत्रण की स्थापना, इसके राजनीतिक एवं आर्थिक परिणाम।

16. सूर, राजनीतिक, राजस्व और असैनिक प्रशासन।

17. अकबर के अधीन मुगल साम्राज्य का विस्तारः- राजनैतिक एकता, अकबर के अधीन राजतंत्र का नवीन स्वरूप, अकबर का धार्मिक राजनीतिक विचार, गैर मुस्लिमों के साथ संबंध।

18. मध्य कालीन युग में क्षेत्रीय भाषाओं और साहित्य की वृद्धि, कला और वस्तुकला का विकास।

19. राजनीतिक विचार और संस्थाएँ, मुगल साम्राज्य की प्रकृति, भू-राजस्व प्रशासन, मनसबदारी और जागीरदारी पद्धतियां, भूमि संरचना और जमींदारों की भूमिका, खेतीहर संबंध, सैनिक संगठन।

20. औरंगजेब की धार्मिक नीति- दक्षिण में मुगल साम्राज्य का विस्तार, औरंगजेब के विरूद्ध विद्रोह, स्वरूप और परिणाम।

21. शहरी केन्द्रों का विस्तार- औद्योगिक अर्थव्यवस्था- शहरी और ग्रामीण विदेशी व्यापार और वाणिज्य, मुगल और यूरोपीय व्यापारिक कम्पनियाँ।

22. हिन्दू-मुस्लिम संबंध, एकीकरण की प्रवृत्ति-संयुक्त संस्कृति (16वीं से 18वीं शताब्दी)।

23. शिवाजी का उदय- मुगलों के साथ उनका संघर्ष, शिवाजी का प्रशासन, पेशवा (1707-1761) के अधीन मराठी शक्ति का विस्तार, प्रथम तीन पेशवाओं के अधीन मराठा राजनीतिक संरचना, चैथ और सरदेशमुखी, पानीपत की तीसरी लड़ाई, कारण और प्रभाव, मराठा राज्य व संघ का आविर्भाव, इसकी संरचना और भूमिका।

24. मुगल साम्राज्य का विघटन, नवीन क्षेत्रीय राज्य का आविर्भाव।

I. Political and social conditions: the Rajputs their polity and social Structure, Land structure, and its impacts on society.

II. Trade and Commerce.

III. Art, Religion and Philosophy, Sankaracharya.

IV. Maritime activities, contacts with the Arabs, mutual, Cultural impacts.

V. Rashtrakutas, their role in History- Contribution to art and culture. The chola Empire Local Self-Government, features of the Indian village system society, economy, art and learing in the South.

VI. Indian Society on the eve of Mahmud of Ghazni’s campaigns, Al-Biruni’s observations.

INDIA: 1200 – 1765

VII. foundation of the Delhi Sultanate in Northern India, causes and circumstances, its impact on the Indian society.

VIII. Khilji Imperialism, significance and implications, administrative and economic regulations and their impact on State and the people.

IX. New orientation of State policies and administration principles under Muhamed Bin Tughluq. Religious policy and public works of Firoz Shah.

X. Disintegration of the Delhi Sultanate; causes and its effects on the Indian policy and society.

XI. Nature and character of State; political ideas and institutions. Agrarian structure and relations, growth of urban centres, trade and commerce, conditions of artisans and peasants, new crafts, industry and technology, Indian medicines.

XII. Influence of Islam on Indian culture. Muslim mystic movements, nature and significance of Bhakti saints, Maharashtra Dharma, role of the Vaisnave revivalist movement social and religious significance of the chaitanya movement, impact of Hindu society on Muslim social life.

XIII. The Vijayangar Empire: its origin and growth contribution to art, literatiure and culture; social and economic conditions, system of administration, break-up of the Vijayanagar Empire.

XIV. Sources of History: important chronicles. Inscriptions and Travellers Accounts.

XV. Establishment of Mughal Empire in Northern India: political and social conditions in Hindustan on the eve of Babur’s invasion, Babur and Humayun Establishment of the Portuguese control in the Indian ocean, its political and economic consequences.

XVI. Sur Administration, political, revenue and military administration.

XVII. Expansion of the Mughal Empire under Akbar: political unification: new concepts of monarchy under Akbar: Akbar’s religio-political outlook: relations with the non-Muslims.

XVIII. Growth of regional languages and literature during the medieval period development of art and architecture.

XIX. Political ideas and institutions; nature of the Mughal State, land revenue administration; the Mansabdari and the Jagirdari systems, the landed structure and the role of the Zamindars, agrarian relations, the military organisation.

XX. Aurangzeb’s religious policy; expansion of the Mughal Empire in Deccan; revolts against Aurangzeb- Character and consequences.

XXI. Growth of urban centres; industrial economy urban and rural; foreign trade and commerce. The Mughals and the European trading companies.

XXII. Hindu-Muslim relations; trends of integration; composite culture (16th to 18th centuries).

XXIII. Rise of Shivaji, his conflict with the Mughals; administration of Shivaji, expansion of the Maratha power under the Peshwas (1707-1761), Maratha political structure under the First Three Peshwas; Chauth and Sardeshmukhi, Third Battle of Panipat, causes and effects; emergence of the Maratha confederacy, its structure and role.

XXIV. Disintegration of the Mughal Empire, emergence of the new Regional States.

Syllabus for Full Test III: Modern India (पूर्ण टेस्ट III के लिए पाठ्यक्रम: आधुनिक भारत)

1. ऐतिहासिक शक्तियाँ और कारक, जिनकी वजह से अंग्रेजों का भारत पर अधिपत्य हुआ, विशेषतया बंगाल, महाराष्ट्र और सिंध के सन्दर्भ में भारतीय ताकतों द्वारा प्रतिरोध और उनकी असफलताओं के कारण।

2. राजवाड़ों पर अंग्रेजों का प्रमुख का विकार।

3. उपनिवेशवाद की अवस्थाएँ और प्रशासनिक ढांचे और नीतियों में परिवर्तन (राजस्व, न्याय समाज और शिक्षा सम्बन्धी परिवर्तन और ब्रिटिश औपनिवेशिक हितों में उनका संबंध)।

4. ब्रिटिश आर्थिक नीति और उनका प्रभाव, कृषि का वाणिज्यीकरण, ग्रामीण ऋणग्रस्तता, कृषि श्रमिकों की वृद्धि, दस्तकारी उद्योगों का विनाश, सम्पत्ति का पलायन, आधुनिक उद्योगों की वृद्धि तथा पूंजीवादी वर्ग का उदय, ईसाई मिशनों की गतिविधियाँ।

5. भारतीय समाज के पुनर्जीवन के प्रभाव, सामाजिक धार्मिक आंदोलन, सुधारकों के सामाजिक, धार्मिक, राजनीतिक और आर्थिक विचार और उनकी भविष्य दृष्टि, उन्नीसवीं शताब्दी के पुनर्जागरण का स्वरूप और
उसकी सीमाएँ, जातिगत आंदोलन विशेषकर दक्षिण और महाराष्ट्र के सन्दर्भ में, आदिवासी विद्रोह विशेषकर मध्य तथा पूर्वी भारत में।

6. नागरिक विद्रोह- 1857 का विद्रोह, नागरिक विद्रोह और कृषक विद्रोह विशेषकर नील बगावत के संबंध में, दक्षिण के दंगे और भोपला बगावत।

7. भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन का उदय और विकास- भारतीय राष्ट्रवाद के सामाजिक आधार, प्रारम्भिक राष्ट्रवादियों और उग्र राष्ट्रवादियों की नीतियाँ और कार्यक्रम, उग्र क्रांतिकारी दल, आतंकवादी साम्प्रदायिकता का उदय और विकास। भारत की राजनीति में गांधीजी का उदय और उनके जन-आंदोलन के तरीके, असहयोग सविनय अवज्ञा और भारत छोड़ो आंदोलन, ट्रेड यूनियन और किसान आंदोलन। रजवाड़ों की जनता के आंदोलन, कांग्रेस समाजवादी और साम्यवादी। राष्ट्रीय आंदोलन के प्रति ब्रिटेन की सरकारी प्रतिक्रिया, 1909-1935 के संवैधानिक पतिवर्तनों के बारे में कांग्रेस का रूख, आजाद हिन्द फौज 1946 का नौसेना विद्रोह, भारत का विभाजन और स्वतंत्रता की प्राप्ति।

1. Historical Forces and Factors which led to the British conquest of India with special reference to Bengal, Maharashtra and Sind resistance of Indian powers and causes of heir failure.

2. Evolution of British Paramountcy over princely States.

3. Stages of colonialism and changes in Administrative structure and policies. Revenue, Judicial and Social and Educational and their linkages with British colonial interests.

4. British economic policies and their impact- Commercialisation of agriculture Rural indebtedness, growth of agricultural labour. Destruction of handicraft industries. Drain of wealth, growth of modern industry and rise of a capitalist class. Activities of the Christian Missions.

5. Efforts at regeneration of Indian society. Socio-religious movements, social religious, political and economic ideas of the reformers and their vision of future, nature and limitation of 19th centure “Renaissance”. Caste movements in general with special reference to South India and Maharashtra, tribal, revolts, specially in Central and Eastern India.

6. Civil rebellions, Revolt of 1857, Civil Rebellions, and peasant revolts with special reference to Indigo revolt. Deccan riots and Mapplia uprising.

7. Rise and growth of Indian National Movement. – Social basis of Indian nationalism policies. Programme of the early nationalists and militant nationalists militant revolutionary group terrorists. Rises and growth of communalism; emergence of Gandhiji in Indian politics and his techneques of mass mobilisation. Non-cooperation, civil disobedience and Quit India Movements, trade union and peasant movements. State (s) people movements, rise and growth of left-wing within the Congress- The Congress, Socialists and Communists; British official response to National Movement. Attitude of the Congress to constitutional chages, 1909-1935; Indian National Army Naval Mutiny of 1946, the partition of India and achievement of freedom.

Syllabus for Full Test IV: World History (पूर्ण टेस्ट IV के लिए पाठ्यक्रम: विश्व इतिहास)

(क) भौगोलिक खोजों-

  • सामन्तवाद का पतन, पूंजीवाद का प्रारम्भ (यूरोप में पुनर्जीवन और धर्म सुधार) नवीन निरंकुश राजतंत्र- राष्ट्र राज्योदय।
  • पश्चिमी यूरोप में वाणिज्यिक क्रांति वाणिज्यवाद।
  • इंगलैंड में संसदीय संघों का विकास। तीस वर्षीय युद्ध। यूरोप के इतिहास में इसका महत्व।

(ख) फ्रांस का प्रभुत्व-

  • विश्व के वैज्ञानिक दृष्टिकोण का उदय। प्रवोधन का युग, अमेरिका की क्रांति एवम् इसका महत्व।
  • फ्रांस की क्रांति तथा नैपोलियन का युग (1789-1815), विश्व इतिहास में इसका महत्व। पश्चिमी यूरोप में सुधारवाद तथा प्रजातंत्र का विकास (1815-1914), औद्योगिक क्रांति का वैज्ञानिक तथा तकनीकी पृष्ठभूमि, यूरोप के औद्योगिक क्रांति की अवस्थाएँ, यूरोप में सामाजिक तथा श्रम आंदोलन।

(ग)

  • विशाल राष्ट्र राज्यों का सुदृढ़ीकरण, इटली का एकीकरण, जर्मन साम्राज्य का आबादीकरण। अमेरिका का सिविल युद्ध। 19वीं और 20वीं शताब्दी में एशिया तथा अफ्रीका में उपनिवेशवाद तथा साम्राज्यवाद।
  • चीन तथा पश्चिमी शक्तियाँ। जापान और इसके उदय का बड़ी शक्ति के रूप में आधुनिकीकरण।
  • यूरोपीय शक्तियाँ तथा ओट्टामन एम्पायर (1815-1914).
  • प्रथम विश्वयुद्ध- युद्ध का आर्थिक तथा सामाजिक प्रभाव- पेरिस संधि 1919.

(घ) रूस की क्रांति 1917-

  • रूस में आर्थिक तथा सामाजिक पुनः निर्माण, इन्डोनेशिया, चीन तथा हिन्द चीन में राष्ट्रवादी आंदोलन।
  • चीन में साम्यवाद का उदय और स्थापना। अरब संसार में जागृति, मिश्र में स्वाधीनता तथा सुधार हेतु संघर्ष, कमाल अंतातुर्क के अधीन आधुनिक तुर्की का आचिर्धान। अरब राष्ट्रवाद का उदय।
  • 1929-32 का विश्व वलन। फ्रेंकलिन डी रूजवेल्ट का नया व्यवहार। यूरोप में सर्वसत्तावाद, इटली में मोहवाद, जर्मन में नाजीवाद। जापान में सैन्यवाद, द्वितीय विश्वयुद्ध के उद्गम तथा परिणाम।

A. Geographical Discoveries. – Decline of feudalism; beginnings of capitalism. Renaissance and reformation  in Europe.  The new absolute monarchies – Emergence of the Nation State Commercial revolution in Western Europe – Mercantilism.  Growth of Parliamentary institutions in England.  The Thirty Year’s War. Its significance in European History.  Ascedancy of France.

B. The emergence of a scientific view of the World. The age of Enlightenment.  The American Revolution – Its significance.  The French Revolution and Napoleonic Era (1789 – 1815). Its Significance in World History.  The growth of liberalism and democracy in Western Europe (1815 – 1914) Scientific and technological background to the Industrial revolution – stages of the Industrial Revolution in Europe.

C. Consolidatinon of large nation States- The unification of Italy – the founding of Socialist and labour Movement in Europe.  The German Empire.  The American Civil War.  Colonialism and Imperialism in Asia and Africa in the 19th and 20th centuries.  China and the Western Powers.  Modernisation of Japan and its emergence as a great power.  The European powers and the Ottaman Empire (1815 – 1914) The First World War – The economic and social impact of the war – the peace of Paris, 1919.

D. The Russian Revolution, 1917 Economics and Social Reconstruction in soviet Union. Rise of National Movements in Indonesia, China and Indo-China.  Rise and establishment of Communism in China. Awakeing in the Arab World- Struggle for freedom and reform in Egypt Emegence of Modern Turkey Kamal Ataturk– The rise of Arab nationalism.  World Depression of 1929 -32.  The new deal of Franklin D. Roosevelt.  Rise of Militarism in Japan.  Orgins and impact of Second World War.

Syllabus for Full Test V (पूर्ण टेस्ट V के लिए पाठ्यक्रम)

  • Complete syllabus of History
  • इतिहास का पूरा पाठ्यक्रम
Advertisements

Leave a Reply